एशियन गेम्स में भारत को फुटबॉल में स्वर्ण पदक जिताने वाले चुनी गोस्वामी ने क्रिकेट में भी बंगाल को रणजी ट्रॉफी फाइनल में पहुंचाया

चुनी गोस्वामी न केवल भारत के सबसे बेहतरीन फुटबॉलर्स में से एक थे बल्कि वह रणजी क्रिकेट में बंगाल के लिए फ़ाइनल भी खेला।

1588321764Chuni Goswami.jpg

पूर्व भारतीय फुटबॉलर चुनी गोस्वामी का गुरुवार को कोलकाता में शाम 5 बजे के करीब निधन हो गया। 82 साल की उम्र में कार्डियक अरेस्ट के कारण सुबल गोस्वामी, जिन्हें प्यार से ’चुनी’ के नाम से जाना जाता है, ने शहर के एक अस्पताल में अंतिम सांस ली। वह अपनी पत्नी बसंती और बेटे सुदीप्तो को पीछे छोड़ गए हैं। यह भारतीय फुटबॉल के लिए एक अपूरणीय क्षति है। अभी एक महीने पहले ही चूनी के प्रिय साथी पीके बनर्जी का भी निधन हो गया था। 

गोस्वामी को अपने युग के सबसे बेहतरीन फुटबॉलर्स में से एक माना जाता था। 1960 के दशक में अपने प्राइम के दौरान, उनकी ड्रिबलिंग स्किल्स, बॉल कंट्रोल बहुत कमाल की थी। 

गोस्वामी का जन्म 15 जनवरी 1938 को अविभाजित बंगाल (अब बांग्लादेश) के किशोरगंज जिले में हुआ था। गोस्वामी 1946 में 8 साल की उम्र में मोहन बागान जूनियर टीम में शामिल हुए। वह 1953 तक जूनियर टीम का हिस्सा थे और फिर 1954 में मोहन बागान की सीनियर टीम में शामिल हुए। 1968 में अपनी सेवानिवृत्ति तक उन्होंने मोहन बागान के लिए खेलना जारी रखा।

क्लब के साथ रहने के दौरान, उन्होंने 1960 से 1964 तक 5 सीज़न में क्लब की कप्तानी की। गोस्वामी ने तीन अलग-अलग डूरंड कप जीत और चार लगातार कोलकाता लीग जीत में मोहन बागान का नेतृत्व करने का गौरव हासिल किया।

एशियाई खेलों में भारत को दिलाया गोल्ड मैडल 

गोस्वामी ने 1956 में अंतर्राष्ट्रीय फुटबॉल में पदार्पण किया। वह ओलंपिक, एशियाई खेलों, एशिया कप और मर्डेका कप सहित 50 अंतरराष्ट्रीय मैचों में भारत का नेतृत्व किया। उन्होंने 1962 में एशियाई खेलों में भारत को स्वर्ण पदक दिलाया। इसके अलावा उन्होंने 1964 में तेल अवीव में एशिया कप में भारत की कप्तानी भी की थी। 

Pele Sang Chuni

1962 के एशियाई खेलों में जीत के लिए गोस्वामी ने सफलतापूर्वक भारतीय टीम की कप्तानी की। दक्षिण वियतनाम के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबले में, चुनी ने दो गोल करके भारतीय टीम को दक्षिण कोरिया के खिलाफ फाइनल में पहुंचने में मदद की। बैनर्जी ने फाइनल में भारत को दक्षिण कोरिया के खिलाफ 1-0 की बढ़त से जीत दिलाई।

इंग्लिश फुटबॉल क्लब टोटेनहम हॉट्सपुर ने कथित तौर पर गोस्वामी को इंग्लैंड में ट्रायल के लिए आमंत्रित किया था, क्योंकि भारत ने एशियाई कप के फाइनल में स्वर्ण पदक जीता था, लेकिन गोस्वामी ने उनके ऑफर को ठुकरा दिया था। टोटेनहम उस समय लंदन का सबसे बड़ा फुटबॉल क्लब था और इसका प्रबंधन दिग्गज अंग्रेजी फुटबॉल खिलाड़ी बिल निकोलसन द्वारा किया जाता था।

फुटबॉल के अलावा क्रिकेट में भी दिखाया जलवा 

फुटबॉल के अलावा चुन्नी गोस्वामी ने क्रिकेट में भी हाथ आजमाया। वह घरेलू भारतीय क्रिकेट में 1962-63 और 1972-73 के बीच एक ऑलराउंडर के रूप में बंगाल के लिए प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेला।

अपने 46 मैचों के प्रथम श्रेणी क्रिकेट करियर में चूनी ने 28.42 की औसत से 1,592 रन बनाए, जिसमें एक शतक और सात अर्धशतक शामिल हैं। उनके  नाम पर एक पांच विकेट का हॉल है। 

यह भी पढ़ें: रोहित शर्मा हैं छक्कों के बादशाह, इस गेंदबाज़ के खिलाफ लगाए हैं सबसे ज्यादा छक्के

उन्होंने 1972 के 38वें रणजी ट्रॉफी फाइनल में बंगाल का नेतृत्व किया, लेकिन वह बंगाल को जीत न दिला पाये। गोस्वामी को 1963 में अर्जुन पुरस्कार और 1983 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया था।