क्रिकेटर जिसने सोते रहने की वजह से गंवाया देश के लिए टेस्ट मैच में डेब्यू करने का मौका

क्या आप किसी ऐसे क्रिकेटर को जानते हैं जो देश के लिए अपना डेब्यू इसलिए नहीं कर पाया क्योंकि वह सोता रह गया।

1609688957Zafar Gohar.jpg

क्रिकेट खेलने वाले हर एक खिलाड़ी का सपना होता है कि वह अपने देश का प्रतिनिधित्व करें। इसके लिए वे जी-जान लगा देते है और सामने आने वाले हर मौकों को भुनाते हैं। लेकिन क्या आप किसी ऐसे क्रिकेटर को जानते हैं जो देश के लिए अपना डेब्यू इसलिए नहीं कर पाया क्योंकि वह सोता रह गया। सोते रहने की वजह से इस क्रिकेटर का टेस्ट मैच में डेब्यू 5 साल देर से हुआ। आज हम आपको एक ऐसे ही खिलाड़ी के बारें में बताएँगे। 

क्रिकेटर जो देश के क्रिकेट बोर्ड का फोन नही उठा पाया 

इस खिलाड़ी को सोते रहने की वजह से डेब्यू न कर पाने की कीमत 5 साल तक चुकानी पड़ी। क्योंकि इस खिलाड़ी ने 5 साल बाद अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया। कारण था कि इस खिलाड़ी ने आधी रात में अपने देश के क्रिकेट बोर्ड का फोन नहीं उठाया था. यह खिलाड़ी है पाकिस्तान के बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज़ ज़फर गौहर। 

Zagar Gohar

ज़फर गौहर ने पाकिस्तान के लिए वनडे क्रिकेट में 2015 में ही डेब्यू कर लिया था लेकिन उन्हें टेस्ट में डेब्यू करने के लिए 5 साल का इन्तजार करना पड़ा। इसका कारण हैरान करने वाला था। इसमें कुछ ज़फर की गलती थी तो कुछ पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की, बोर्ड ने उन्हें आधी रात को फोन किया था.

सोते रह गए थे ज़फर गौहर 

zagar gohar

दरअसल बात सन्न 2015 की है। पाकिस्तान के स्पिनर यासिर शाह चोटिल हो गए थे। टीम में कोई और स्पिनर नहीं था। उस समय पाकिस्तान टेस्ट टीम के कप्तान मिस्बाह उल हक़ थे। मिस्बाह उल हक़ चाहते थे कि यासिर की जगह ज़फर गौहर मैच खेलें लेकिन ज़फर गौहर ने अपनी ज़िन्दगी का यह शानदार मौका खो दिया। इसका कारण यह था कि ज़फर रात में सोते रह गए। 

यह भी पढ़ें: ऐसा क्रिकेटर जिसने बनाये हैं टी20 क्रिकेट में 10 हज़ार रन, लेकिन देश के लिए एक भी टेस्ट मैच खेलने का मौका नहीं मिला

तुरंत पकड़नी थी फ्लाइट 

ज़फर को तुरंत अबूधाबी के लिए फ्लाइट पकड़नी थी। लेकिन वह फोन को नहीं उठा सके। इसलिए वह एयरपोर्ट नहीं पहुँच सके। उन्हें पीसीबी ने तुरन फ्लाइट पकड़ने के लिए फोन किया था। लेकिन ज़फर ने रात में फोन नहीं उठाया। उन्हें एयरपोर्ट पर आना था जहाँ पर अधिकारी उन्हें वीजा और जरूरी कागजात देते जिसकी वजह से वह अबूधाबी आ सकते थे। 

पीसीबी ने आधी रात में टीम शामिल करने का फैसला किया 

इसमें ज़फर की बस इतनी गलती थी कि उन्होंने रात में फोन नहीं उठाया। दरअसल खुद पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने उन्हें टीम में शामिल करने का प्लान आधी रात को बनाया था। ज़फर को अंदाजा नहीं था कि बोर्ड उन्हें रात में फोन करेगा। इसलिए वह बेखबर सोते रहे।

ज़फर गौहर उस समय पाकिस्तान A की तरफ से खेलते हुए इंग्लैण्ड के खिलाफ शारजाह में 5 विकेट झटके थे। इसलिए बोर्ड ने यासिर शाह के चोटिल होने पर उन्हें टीम में शामिल करने का फैसला किया था। 

5 साल बाद दुबारा मिला टेस्ट मैच खेलने का मौका 

सोते रहने का खामियाजा ज़फर को 5 साल तक टेस्ट में इन्तजार कर उठाना पड़ा। दरअसल न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में पाकिस्तान के फ्रंट लाइन स्पिनर  शादाब खान चोटिल हो गए। उनकी जगह पर ज़फर को पाक की टीम मे उन्हें न्यूजीलैंड के खिलाफ जनवरी 2021 में पाकिस्तान के लिए डेब्यू करने का मौका मिला। फोन न उठा पाने के कारण उन्हें इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू करने के लिए 5 साल का नुकसान उठाना पड़ा।