इकलौता गेंदबाज जिसने टेस्ट सीरीज में विपक्षी टीम के सभी 16 खिलाड़ियों को किया है ऑउट

दुनिया में एक ऐसा भी गेंदबाज़ हैं जिसने एक टेस्ट सीरीज में विपक्षी टीम के सभी खिलाड़ियों को ऑउट किया है। आइये इस बारें में विस्तार से जानते हैं।

1589485950New Project.jpg

किसी टेस्ट मैच में सभी 10 विकेट लेने का रिकॉर्ड अनिल कुंबले और एक गेंदबाज़ के नाम है। जब कोई टीम खेलती है तो उसके 11 खिलाड़ी मैदान में खेलते हैं। अगर एक गेंदबाज़ किसी टीम के सभी खिलाड़ियों को ऑउट करता है तो वह केवल 10 खिलाड़ी को ही ऑउट कर पायेगा और एक नॉट ऑउट रहेगा। दुनिया में एक ऐसा भी गेंदबाज़ हैं जिसने एक टेस्ट सीरीज में विपक्षी टीम के सभी खिलाड़ियों को ऑउट किया है। आइये इस बारें में विस्तार से जानते हैं। 

यह खिलाड़ी हैं भारत के टेस्ट मैच स्पेशलिस्ट स्पिनर रविचंद्रन अश्विन। आश्विन एक टेस्ट सीरीज में सभी विपक्षी खिलाड़ियों को आउट करने वाले एकमात्र गेंदबाज हैं। उन्होंने 2013 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ यह मुकाम हासिल किया था, जहां ऑस्ट्रेलिया ने 16 खिलाड़ियों का इस्तेमाल उस सीरीज में किया था और उन्होंने कम से कम एक या उससे ज्यादा वार सभी को आउट किया था। सीरीज के पहले टेस्ट मैच में चेन्नई में आश्विन ने दोनों पारियों में कुल मिलकर 12 विकेट हासिल किये थे। 

Ravi ashwin

ऑस्ट्रेलिया की तरफ से इस सीरीज में 17 खिलाड़ी थे, जिसमे से 16 खिलाड़ियों ने सीरीज में खेला था। यह सभी खिलाड़ी थे- माइकल क्लार्क (c), शेन वॉटसन (vc), जैक्सन बर्ड, एड कोवान, जेवियर डोहर्टी, मोइसिस हेनरिक्स, फिलिप ह्यूज, मिशेल जॉनसन, उस्मान ख्वाजा, नाथन ल्योन, ग्लेन मैक्सवेल, जेम्स पैटिनसन, पीटर सिडल, स्टीव स्मिथ, मैथ्यू वेड (wk), मिशेल स्टार्क, डेविड वार्नर

आश्विन के लिए यह सीरीज काफी सफल रही। इस सीरीज में उन्होंने कई सारे रिकॉर्ड बनाए। 2013 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू टेस्ट सीरीज में, उन्होंने 29 विकेट लिए। यह विकेट टैली 4 मैचों की टेस्ट सीरीज में किसी भी भारतीय गेंदबाज द्वारा लिए गए सबसे ज्यादा विकेट थे। इसी साल उन्होंने अपने 18 वें मैच में अपना 100 वां टेस्ट विकेट लिया। 

यह भी पढ़ें: टेस्ट मैच के दूसरे दिन की शादी, हेलीकॉप्टर की मदद से मैदान से चर्च तक पहुंचे

तब वह सबसे कम मैच में 100 विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज बने। भारत ने इस सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को 4-0 से हराया था। इस सीरीज के पहले 3 मैचों में माइकल क्लार्क ने कप्तानी की और चौथे मैच में शेन वाटसन ने कप्तानी की थी। भारत की तरफ से MS धोनी कप्तान थे।