Retirement: घरेलु क्रिकेट में वसीम जाफर के रिकॉर्ड को तोड़ना होगा नामुमकिन

वसीम ज़ाफ़र ने अपने स्कूली दिनों में खेलते हुए 15 साल की उम्र में 400 रन एक पारी में ठोंक दिए थे। वसीम ज़ाफ़र की काबिलियत यह थी वह फील्डरों के बीच में से बहुत ही ख़ूबसूरती से

1583597899New Project.jpg

नयी दिल्ली: भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज और रणजी दिग्गज वसीम जाफर ने शनिवार (7 मार्च) को खेल के सभी प्रारूपों से सन्यास लेने का फैसला कर लिया। उन्होंने यह घोषणा ट्विटर पर की। वसीम जाफ़र 42 साल के हो चुके हैं। वह एक ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने रणजी टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन और शतक बनाये हैं।

वसीम जाफर का जन्म 16 फरवरी 1978 को बॉम्बे, महाराष्ट्र में हुआ था। शुरू-शुरू में वसीम जाफर की बल्लेबाजी शैली पूर्व भारतीय कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन की कार्बन कॉपी मानी जाती थी।

15 साल की उम्र में बनाये 400 रन

वसीम ज़ाफ़र ने अपने स्कूली दिनों में खेलते हुए 15 साल की उम्र में 400 रन एक पारी में ठोंक दिए थे। वसीम ज़ाफ़र की काबिलियत यह थी वह फील्डरों के बीच में से बहुत ही ख़ूबसूरती से गेंद को निकालकर बाउंडरी तक पहुंचाते थे।

हाल ही में वसीम ज़ाफ़र ने बांग्लादेश क्रिकेट टीम के बैटिंग कोच बने हैं। ज़ाफ़र ने कुल 10 रणजी फ़ाइनल खेले हैं और सभी फ़ाइनल जीतने वाली टीम का हिस्सा रहे हैं।

Wasim Jaffar

घरेलु और अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू

42 वर्षीय ज़ाफर ने अपने प्रथम श्रेणी क्रिकेट करियर की शुरुआत 1996 में अपने दूसरे मैच में ही तिहरा शतक लगाकर की। जाफ़र को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 2000 में टेस्ट में डेब्यू करने का मौका मिला। हालांकि उनका डेब्यू उतना अच्छा नहीं रहा। उन्होंने अपने पहले मैच की दोनों पारियों में सिंगल डिजिट में रन बनाये।

टेस्ट रिकॉर्ड

भारत की तरफ से खेलते हुए वसीम ज़ाफर ने 31 टेस्ट मैचों में 1,944 रन बनाये। जिसमे उन्होंने 5 शतक और 11 अर्धशतक लगाए। उनका सर्वाधिक स्कोर 212 है। अपने करियर के दौरान उन्होंने कुल 11 ओवर की गेंदबाज़ी की जिसमे उन्होंने 2 विकेट चटकाए। अपने टेस्ट करियर में उन्होंने 27 कैच पकड़े।  भारत के लिए अपना आखिरी टेस्ट मैच उन्होंने 11 अप्रैल 2008 को साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेला।

वनडे रिकॉर्ड

वसीम ज़ाफ़र हमेशा से टेस्ट स्पेसलिस्ट बल्लेबाज़ रहे।  इलसिए उन्हें ज्यादा वनडे मैच खेलने का मौका नहीं मिला। वह भारत की तरफ से केवल 2 वनडे मैच खेलें हैं। जिसमे उन्होंने 10 रन बनाये हैं। उनका आखिरी वनडे मैच 29 नवंबर 2006 को साऊथ अफ्रीका के खिलाफ था।

Wasim Jaffar

प्रथम श्रेणी क्रिकेट रिकॉर्ड

 प्रथम श्रेणी क्रिकेट में वसीम ज़ाफ़र का रिकॉर्ड विशालकाय है। उन्होंने कुल 256 प्रथम श्रेणी क्रिकेट मैच खेले हैं जिनमे उन्होंने 19,211 रन बनाये हैं। जिसमे उन्होंने 57 शतक और 89 अर्धशतक जड़े हैं। उनका सर्वाधिक स्कोर 314 है।

लिस्ट A रिकॉर्ड

वसीम ज़ाफ़र ने कुल 118 लिस्ट A मैच खेले हैं। जिसमे उन्होंने कुल 4,849 रन बनाये हैं। उन्होंने कुल 10 शतक और 33 अर्धशतक लिस्ट A क्रिकेट में लगाएं हैं। इस दौरान उनका सर्वाधिक स्कोर नाबाद 178 रहा है।

 सहवाग और गंभीर की वजह से करियर हुआ ख़त्म  

वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर के भारत के लिए टेस्ट मैचों में स्थायी ओपनर बनने के बाद ज़ाफ़र का करियर ख़त्म हो गया। वह फिर दोबारा भारतीय टीम में वापसी नहीं कर पाए। हालांकि वह घरेलु टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन करते रहे।  कुल मिलाकर उन्होंने भारत के लिए 31 टेस्ट खेले और 34 के औसत के रन बनाये।

रणजी में दो टीमों के लिए खेला

ज़ाफ़र ने घरेलु टूर्नामेंट में मुंबई और महाराष्ट्र की एक और घरेलु टीम विदर्भ के लिए खेला। 1996 से 2015 तक वह मुंबई के लिए खेलते रहे इसके बाद मुंबई से 19 साल का जुड़ाव ख़त्म करके वह 2015 में वह विदर्भ के साथ जुड़ गए।  मुंबई से उनके निकलने का कारण यह था कि उन्हें कोई टीम नहीं लेना चाहती थी। लेकिन चन्द्रकांत पंडित नाम के एक कोच ने उन्हें विदर्भ से खेलने के लिए ऑफर किया। अपने रिटायरमेंट लेटर में उन्होंने सचिन तेंदुलकर और चंद्रकांत पंडित के बारें में जिक्र किया।

Wasim Jaffar

उन्होंने लिखा, "मैं चंद्रकांत पंडित को भी धन्यवाद देना चाहूंगा कि मुझ पर विश्वास दिखाने के लिए जब 2017-18 सीज़न के लिए किसी भी टीम ने मुझे पेशेवर के रूप में दिखाने के लिए कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। उनकी वजह से ह मुझे फिर से विदर्भ से लिए खेलने और दो बार रणजी ट्रॉफी और ईरानी कप जीतने का मौका मिला।"

यह भी पढ़ें: ऑस्ट्रेलिया की यह गेंदबाज़ इसलिए भारत के खिलाफ खेलने से करती है नफ़रत

वसीम ज़ाफ़र के पिता का सपना था कि उनका कोई एक बेटा इंडिया के लिए खेले। उन्होंने ऐसा किया। जिसका जिक्र उन्होंने अपने रिटायरमेंट लेटर में किया है। जाफर ने आगे कहा कि जिस तरह से टेस्ट क्रिकेट उन्हें बहुत पसंद है और इसमें दो पारी होती है इसी तरह से मै भी अपनी दूसरी पारी में क्रिकेट के लिए कोचिंग और कमेंट्री आदि करना चाहूंगा।