टेस्ट क्रिकेट में एक ही दिन दोनों टीमों ने खेली है 4 पारी, सन्न 2000 के बाद के हैं सभी मैच

अक्सर एक टेस्ट मैच में यह नहीं देखा जाता है कि दोनों टीमें एक ही दिन में दो बार खेलने उतरें। लेकिन टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में यह 3 बार 3 अलग-अलग टेस्ट मैच में हुआ है। 

1585423076New Project.jpg

क्रिकेट में वैसे तो कई हैरान करने वाले रिकॉर्ड बनते हैं और बाद में टूटते हैं। ये रिकॉर्ड खिलाड़ियों द्वारा बनाये जाते हैं और खिलाड़ियों द्वारा ही तोड़े जाते हैं। लेकिन कुछ रिकार्ड्स ऐसे भी हैं जिसे कोई खिलाड़ी चाहे भी नहीं तोड़ सकता है। इसका कारण है कि यह सब महज एक संयोग होता है और यह बार घटित नहीं होता है। आज हम आपको ऐसे ही क्रिकेट के एक अजीब रिकॉर्ड के बारें में जानेंगे। 

टेस्ट क्रिकेट में एक ही दिन दोनों टीम द्वारा चार पारियां खेलना 

अक्सर एक टेस्ट मैच में यह नहीं देखा जाता है कि दोनों टीमें एक ही दिन में दो बार खेलने उतरें। लेकिन टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में यह 3 बार 3 अलग-अलग टेस्ट मैच में हुआ है। 

1- इंग्लैंड Vs  वेस्टइंडीज, 2000,  लॉर्ड्स टेस्ट 

इस तरह का पहला रिकॉर्ड जहाँ दोनों टीमें एक ही दो बार बल्लेबाज़ी करने उतरी वह इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच 2000 लॉर्ड्स टेस्ट के दौरान दर्ज किया गया था। वेस्टइंडीज के 89.2 ओवरों में 267/9 का स्कोर बनाने के बाद खराब रोशनी के कारण पहला दिन रोक दिया गया। कोर्टनी वाल्श को दूसरे दिन की पहली ही गेंद पर आउट कर इंग्लैंड ने वेस्टइंडीज की पारी का अंत कर दिया।

EngvsWI

इसके बाद इंग्लैंड टीम अपनी पहली पारी के दौरान 48.2 ओवरों में 134 रनों पर आउट हो गयी। लेकिन इंग्लैंड ने वेस्टइंडीज की दूसरी पारी केवल 26.4 ओवरों में केवल 54 रनों पर समेट कर जोरदार वापसी की। इंग्लैंड ने उसी दिन अपनी दूसरी पारी में 188 रन के लक्ष्य को पीछा करना शुरू किया। हालांकि इंग्लैंड 1.1 ओवर में 0/0 का स्कोर किया। दिन के खेल की समाप्ति वॉल्श ने अपनी पारी की पहली गेंद से की और टेस्ट मैच के एक ही दिन में दो बार बल्लेबाजी करने वाले पहले खिलाड़ी बने।

2- न्यूजीलैंड Vs  भारत, हैमिल्टन टेस्ट, 2002 

दूसरा ऐसा मौका जहाँ दोनों टीमें एक दिन दो बार बल्लेबाज़ी करने उत्तरी वह  2002 में न्यूजीलैंड और भारत के बीच हैमिल्टन टेस्ट में दर्ज किया गया था। मेहमान भारत ने पहला दिन बारिश की वजह से धुलने के बाद दूसरे दिन 92/8 रन पर दिन समाप्त किया। लेकिन भारत तीसरे दिन सुबह केवल सात गेंद ही खेल पाया दूसरे दिन के स्कोर में 7 रन जोड़े।

INDvsNZ

न्यूज़ीलैंड ने इसके बाद बल्लेबाज़ी शुरू की लेकिन केवल  94 रन पर आउट हो गयी। भारत ने अपनी दूसरी पारी और मैच की तीसरी पारी में 154 रन ही बना पाये। कीवी टीम इसके बाद स्टंप से पहले 15 ओवर खेलें और उन्होंने 24/0 रन बनाए। दोनों पारियों में भारत की आखिरी जोड़ी, आशीष नेहरा और टीनू योहानन को तीसरे दिन बल्लेबाजी करने और दो बार गेंदबाजी करने का मौका मिला। नेहरा को दोनों पारियों में आउट किया गया, जबकि योहनन दो बार नाबाद रहे। इस प्रकार, नेहरा दो बार आउट होने और एक ही दिन में दो पारियों में गेंदबाजी करने का अनूठा रिकॉर्ड हासिल है। 

3- साउथ अफ्रीका Vs ऑस्ट्रेलिया, केप टाउन टेस्ट, 2011 

तीसरी ऐसी घटना 2011 के केप टाउन टेस्ट के दौरान साउथ अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुई। यह रिकॉर्ड मैच के दूसरे दिन हुआ जब दोनों टीमों ने दो बार बल्लेबाज़ी करने के लिए मैदान पर उतरी। मैच का दूसरा दिन माइकल क्लार्क (107 *) और पीटर सिडल (0 *) के साथ शुरू हुआ, लेकिन ऑस्ट्रेलिया की पारी 284 रन पर आउट कर दी गयी। इसके बाद साउथ अफ्रीका बल्लेबाज़ी करने उतरी लेकिन ऑस्ट्रेलिया ने उन्हें सिर्फ केवल 24.3 ओवर में 96 रन पर समेट दिया। 

AusVsSA

दक्षिण अफ्रीका ने इसके बाद गेंदबाज़ी में वापसी करते हुए ऑस्ट्रेलियाई टीम को केवल 47 रन पर समेट दिया। इसके बाद इसी दिन साउथ अफ्रीका फिर बल्लेबाज़ी करने उतरी और दिन का अंत 17 ओवर में 81/1 स्कोर पर किया। इस तरह इस दिन चार पारियां हुई। पीटर सिडल ने दो बार बल्लेबाजी की और दिन के खेल के दौरान दो बार गेंदबाजी की। 

यह भी पढ़ें- Facts: 38 में 32 बार भारतीय टीम की जर्सी पहन चुका है यह खिलाड़ी