T-20 में केन विलियम्सन के कप्तानी के एक रिकॉर्ड से पीछे हैं कोहली

कोहली न केवल टेस्ट में बल्कि वनडे और T-20 में भी शानदार प्रदर्शन किया है। लेकिन कोहली T-20 में कप्तानी के मामलें में विलियम्सन के एक व्यक्तिगत रिकॉर्ड से पीछे हैं।

1593161122New Project (2).jpg

विराट कोहली, केन विलियम्सन, जोए रुट और स्टीव स्मिथ को विश्व क्रिकेट में 'फैब 4' के नाम से जाना जाता है। इन चारों खिलाड़ियों ने अपने देश की कप्तानी भी की है और अपनी कप्तानी में देश को जिताया भी।

जहाँ कोहली और विलियम्सन तीनो फार्मेट में अपनी  टीम के कप्तान हैं वहीं जोए रुट केवल इंग्लैंड की टेस्ट टीम के कप्तान हैं। स्टीव स्मिथ 'सैंडपेपर गेट ' के बाद ऑस्ट्रेलिया टीम की कप्तानी से हटा  दिए गए थे। 

इन चारों में अगर देखा जाए तो अब तक केवल विराट कोहली ही सबसे सफल कप्तान साबित हुए है। तीनो फार्मेट में विराट ने भारतीय टीम को कई सफलताएं दिलाई है। कोहली क्रिकेट के तीनो फार्मेट में व्यक्तिगत रूप से भी अच्छा ख़ासा प्रदर्शन भी किया है। 

कोहली न केवल टेस्ट में बल्कि वनडे और T-20 में भी शानदार प्रदर्शन किया है। लेकिन कोहली T-20 में कप्तानी के मामलें में विलियम्सन के एक व्यक्तिगत रिकॉर्ड से पीछे हैं। यह बात हैरान करने वाली हैं क्योंकि कोहली का कप्तान के तौर पर  T-20 में बहुत ही शानदार प्रदर्शन रहा है। 

यह है रिकॉर्ड

Kohli and Williamson

यह रिकॉर्ड है कप्तान के तौर पर  T-20 क्रिकेट में सबसे ज्यादा अर्धशतक लगाने का। इस मामलें में कोहली विलियम्सन से पीछे हैं।  T-20 में कप्तान के तौर पर विलियम्सन ने 42 मैचों में 9 अर्धशतक लगाये हैं जबकि कोहली ने 37 मैचों में केवल 8 अर्धशतक ही लगा पाए हैं।

कोहली के बाद इयोन मॉर्गन ने 46 मैचों में भी 8, फाफ डू प्लेसी ने 40 मैचों में 7 और आरोन फिंच ने भी 7 लगाये हैं। 

यही एक रिकॉर्ड है जिसमे कोहली विलियम्सन के पीछे हैं। नहीं तो वह 'फैब 4' में ज्यादातर सबसे आगे होते हैं। लेकिन इस मामलें में कोहली का कप्तान के तौर पर कम मैच खेलना भी एक बहुत ही महत्वपूर्ण फैक्टर है। 

किसी कप्तान ने अभी तक नहीं की है बोलिंग 

भारतीय T-20 क्रिकेट की अब तक 6 खिलाड़ियों ने कप्तानी की है और इन 6 कप्तानों ने अब तक एक भी गेंद अपनी कप्तानी में नहीं फेंकी है। भारतीय टीम ऐसी पहली टेस्ट टीम है जिसके  T-20 क्रिकेट ने T-20 क्रिकेट में एक भी गेंद की गेंदबाज़ी नही की है। 

यह भी पढ़ें: 3 इंटरनेशनल क्रिकेट ग्राउंड जिसकी बाउंड्री लाइन के अंदर है पेड़