5 ऐसे क्रिकेटर जिन्होंने अपने करियर की शुरुआत गेंदबाज़ के रूप में की, बाद में बन गए प्योर बल्लेबाज़

5 ऐसे क्रिकेटर जिन्होंने अपने करियर की शुरुआत गेंदबाज़ के रूप में की लेकिन बाद में वह एक बल्लेबाज़ के रूप में जाने गए।

1607317310New Project.jpg

आम लोगों के साथ ऐसा होता आया है कि वे जिंदगी में कुछ और बनना चाहते थे लेकिन किस्मत उन्हें कुछ बना जाती है। कुछ ऐसे भी होते हैं जो अपनी मेहनत और लगन से वह  बनचीज बन जाते हैं जो उन्हें पहले समझा ही नहीं जाता है। अगर आप क्रिकेट के फैन हैं तो आज हम आपको 5 ऐसे क्रिकेटर के बारें में बताएँगे जिन्होंने अपने करियर की शुरुआत एक गेंदबाज़ के रूप में की लेकिन बाद में वह एक बल्लेबाज़ के रूप में जाने गए। आइये इसके बारें में विस्तार से जानते हैं। 

 

 

 

1- शोएब मलिक 

पकिस्तान के पूर्व कप्तान और दाएं हाथ के बल्लेबाज़ शोएब मलिक अपने करियर में एक प्योर बल्लेबाज़ माने जाते रहे हैं। वह पाकिस्तान के लिए टी-ट्वेंटी क्रिकेट में मध्य क्रम में बल्लेबाजी करते हैं।

Shoib malik

उन्होंने जब अपने वनडे करियर की शुरुआत की थी तो राइट आर्म ऑफ़ ब्रेक गेंदबाज माने जाते  थे। उन्होंने अपने टेस्ट, वनडे और टीट्वेंटी करियर में क्रमशः  32, 158, और 28 विकेट लिए हैं। शोएब मलिक अपने करियर की शुरुआत एक गेंदबाज के तौर पर करके करियर का अंत का एक बल्लेबाज़ के रूप में किया. 

2- कैमरॉन व्हाइट 

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज़  कैमरॉन व्हाइट अपने करियर की शुरुआत में एक गेंदबाज़ माने जाते थे। उन्होंने अपने 4 टेस्ट मैच के करियर में 146 रन बनायें हैं और 5 विकेट चटकाएं हैं तथा 91 वनडे मैच के करियर में  2,072 रन और 12 विकेट चटकाएं।

Cameron White

रनों को देखते हुए लगता है कि वह एक प्योर बल्लेबाज़ हैं लेकिन कैमरॉन व्हाइट की गिनती उन खिलाड़ियों में होती है जिन्होंने अपने करियर की शुरुआत एक राईट आर्म लेग ब्रेक गेंदबाज़ के तौर पर की थी लेकिन जब करियर ख़त्म किया तो उनके आंकडें एक बल्लेबाज़ की तरह थे। 

3- रवि शास्त्री 

वर्तमान में भारतीय टीम के कोच और पूर्व बल्लेबाज़ रवि शास्त्री ने जब अपने अन्तराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी तब वह एक धीमी गति के बाएं हाथ के गेंदबाज़ थे। उन्होंने 1981 में न्यूजीलैंड में अपने टेस्ट करियर की शुरुआत की।

Ravi Shastri

पहले मैच की दोनों पारियों में उन्होंने 3-3 विकेट चटकाए। इसके दो साल बाद रवि शास्री एक प्योर बल्लेबाज़ की तरह उभर कर आए और भारत के लिए सलामी बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान में पाकिस्तान के खिलाफ शतक जड़ा। जब रवि  शास्त्री ने अपने करियर का अंत किया तब उनके आंकडें एक बल्लेबाज़ की तरह थे। 

4- स्टीव स्मिथ 

इस समय के जिस स्टीव स्मिथ को हम जानते हैं वह वर्तमान क्रिकेट के महान बल्लेबाज़ हैं। बल्लेबाजी में उनके आंकडें बेमिसाल हैं। लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी कि जब स्मिथ ने अपने करियर की शुरुआत की थी तब वह दायें हाथ के लिग स्पिनर थे।

Steve Smith

आज का समय यह है कि स्मिथ गेंदबाजी नहीं करते हैं। वह एक प्योर बल्लेबाज़ माने जाते हैं। स्मिथ ने टेस्ट और वनडे में क्रमशः 17 और 28 विकेट चटकाएं है। 

5- एमेलिया केर 

न्यूजीलैंड की महिला क्रिकेटर  एमेलिया केर  एक बोलिंग आलराउंडर हैं। वह दाएं हाथ से बल्लेबाजी भी करती हैं।  एमेलिया केर ने महिलाओं के वनडे क्रिकेट में हाइएस्ट स्कोर बनाया है। उन्होंने आयरलैंड के खिलाफ 232 रन नॉट आउट बनायें हैं।  

Amelia kerr

यह भी पढ़ें: 2021 में भारतीय क्रिकेट टीम रहेगी बहुत व्यस्त, देखें टाइम टेबल-

एमेलिया केर की उम्र 20 साल है। उन्होंने जब न्यूजीलैंड के लिए डेब्यू किया तो वह एक बोलिंग आलराउंडर मानी जाती थी लेकिन जब उन्होंने वनडे क्रिकेट का हाइएस्ट स्कोर खड़ा किया तो लोग उन्हें प्योर बल्लेबाज़ मानने लगे।